ईमेल पर अपडेट प्राप्त करें

बिल और मेलिंडा गेट्स संस्थान से ईमेल अपडेट्स प्राप्त करने के लिए साइन अप करें।

अब आप हमारी मेलिंग लिस्ट में सब्स्क्राइब्ड हैं

मामला अध्ययन (केस स्टडी)

माँओं की मृत्य दर: इथियोपिया

प्रस्तावना

बिल और मेलिंडा गेट्स द्वारा

यदि आप समुदायों को तबाह करने और बच्चों को जोखिम में डालने का सबसे कारगर तरीका ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं, तो आप माँओं की मृत्यु दर का आविष्कार करेंगे।

इसलिए यह तथ्य कि पिछली पीढ़ी में मरने वाली माँओं की संख्या घटकर आधी हो गई है, वैश्विक स्वास्थ्य में अत्यधिक महत्वपूर्ण सफलताओं में से एक है। यह और भी अधिक महत्वपूर्ण इसलिए है क्योंकि माँओं की मृत्यु दर को घटाना बहुत मुश्किल है।

आंकड़ों के हिसाब से कहें तो यह बच्चों की मृत्यु दर की तुलना में बहुत कम है। इसलिए माँओं की मृत्यु दरों को 1,000 की बजाय प्रति 100,000 जीवित बच्चों के तौर पर बताया जाता है। इसलिए, प्रत्येक उस नये समाधान के लिए जो एक माँ की जान बचाता है, आपको समान प्रभाव लाने के लिए उस समाधान का 100 गुना पहुंचाने की जरूरत होगी।

सौभाग्य से, समाधान पहले से मौजूद हैं। इन समाधानों को सभी औरतों तक पहुंचाने के लिए, सबसे अधिक ज़रूरी प्राथमिकता उन्हें स्वास्थ्य सुविधा-केन्द्रों में बच्चे को जन्म देने के लिए मनाना है, जहाँ वे घर की बजाय योग्यता प्राप्त प्रसूति देखभाल प्राप्त कर सकती हैं। हमने इथियोपिया के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री, केसेटे एडमासू से इस बारे में लिखने को कहा कि उनके देश ने एक ऐसा स्वास्थ्य ढांचा कैसे तैयार किया जिसने औरतों को इस निर्णय को लेने में मदद की।

डॉक्टर केसेटे एडमासू के अनुसार, जबकि घर से सुविधा-केन्द्रों में जन्म देने की तबदीली जारी है, माँ संबंधी स्वास्थ्य समुदाय का यह पक्का करना ज़रूरी है कि सुविधा-केन्द्रों में दी जाने वाली प्रसूति देखभाल उच्चतम गुणवत्ता वाली हो। अब जबकि और अधिक माँएं सुविधा-केन्द्रों में बच्चों को जन्म दे रही हैं, यह स्वास्थ्य प्रणालियों पर नये दबाव डालता है—उन्हें अधिक उपकरणों की, अधिक कर्मचारियों की और अधिक प्रशिक्षण की आवश्यकता है। यदि विश्व ये सुविधाएँ प्रदान करता है, तो हम माँओं की मृत्यु दरों को पिछले 25 वर्षों से त्वरित दरों पर कम करना जारी रखेंगे।

इथियोपिया में प्रति 100,000 जीवित बच्चों की तुलना में माँओं की मृत्यु दरें
अब तक की प्रगति
19902016
0
250
500
750
1k
843
357
स्वास्थ्य विस्तार कार्यक्रम शुरु होता है
2003
महिलाओं की विकास सेना की शुरूआत
2011

फील्ड से

केसेटे एडमासू

CEO, रोल बैक मलेरिया पार्टनरशिप (पूर्व स्वास्थ्य मंत्री, इथियोपिया, 2012-2016)

जब मैं 2002 में इथियोपिया स्वास्थ्य मंत्रालय में आया था, तो हम एक ऐसी स्वास्थ्य प्रणाली का उपयोग कर रहे थे जो दूसरे देशों के लिए बनाई गई थी।

हमारे अत्यधिक प्रशिक्षित स्वास्थ्य प्रदाताओं की एक छोटी सी संख्या बड़े शहरों में केन्द्रित थी, जो हमारे ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे 85 फीसदी लोगों से दूर थे। इस बेमेल ने दुनिया भर में बच्चों और माँओं की मौतों के सबसे खराब आंकड़ों तक पहुंचाया।

हम उन जिन्दगियों को बचाने के लिए प्रतिबद्ध थे, लेकिन अच्छे पैसे को एक खराब प्रणाली में डालने का कोई फायदा नहीं था। इसलिए हमने एक नई प्रणाली का निर्माण किया। 2003 में शुरु हुए, स्वास्थ्य विस्तार कार्यक्रम ने इथियोपिया वासियों को उनकी जरूरत की सेवाएँ, उनके जरूरत के स्थानों पर मुहैया करवाईं। हमने 40,000 स्वास्थ्य विस्तार कर्मियों को 100 मिलियन इथियोपिया वासियों को मूल जानकारी और देखभाल प्रदान करने के लिए प्रशिक्षित किया। इसका उद्देश्य जानकारी और ताकत को—और, अंतत:, जिम्मेदारी को—स्थानीय लोगों के हाथों में देना था।

मेरा मतलब यह नहीं है कि इसमें से कुछ भी करना आसान था। हमने गलतियाँ कीं, हमने अपने सीखे हुए सबकों को अन्य देशों के साथ सांझा किया ताकि वे हमारे अनुभव से सीख सकें। लेकिन, सामान्य तौर पर कहें तो, स्वास्थ्य विस्तार प्रणाली ने काम किया—और तेज़ी से काम किया। आठ वर्षों में ही बच्चों की मृत्यु दर आधी रह गई। हमने अपनी परिकल्पना को साबित कर दिया। जब बच्चों की जिन्दगियाँ बचाने वाली चीज़ों की बात आती है—परिवार नियोजन, टीके, बिस्तर पर लगाने वाली जालियाँ, सामान्य बीमारियों का मूल प्रबंधन—तो आप समुदाय में देखभाल को ला सकते हैं।

आठ वर्षों में ही बच्चों की मृत्यु दर आधी रह गई। लेकिन, माँओं की मृत्यु दरों के बारे में एक अलग ही कहानी थी।

लेकिन, माँओं की मृत्यु दरों के बारे में एक अलग ही कहानी थी। यह कम हुई, लेकिन बच्चों की मृत्यु दर जितनी नहीं। हम जानते हैं कि क्यों? माँओं की जानें बचाने के लिए, आपको प्रसव देखभाल की जरूरत होती है, और वह स्वास्थ्य सुविधा-केन्द्रों में होती है। लेकिन इथियोपिया की अधिकतर माँएं घर पर ही बच्चे को जन्म देने का चुनाव करती हैं। स्वास्थ्य कर्मियों ने महिलाओं को स्वास्थ्य सुविधा-केन्द्रों में बच्चा जनने की सलाह दी लेकिन वे बहुत से परिवारों को बदलाव लाने के लिए नहीं मना पाए।

2010 तक, हमारी समस्या का एक संभावित समाधान सुझाने के लिए विचारों की दो अलग-अलग लड़ियाँ इकट्ठी हुईं। सबसे पहले, स्वास्थ्य विस्तार कार्यक्रम में हमेशा मॉडल परिवारों की अवधारणा को शामिल किया गया था, शुरुआती ग्रहणकर्ताओं ने जिन्होंने बिस्तर पर लगी जालियों के नीचे सोना और और शौचालयों का उपयोग करने जैसी चीज़ों को अपनाया था—और जिनके उदाहरण और नेतृत्व के बारे में हम आशा करते थे वे दूसरों को प्रेरित करेंगे। विचार: मॉडल परिवार मॉडल समुदायों को बनाते हैं, जो मॉडल जिलों की ओर ले जाता है और अंततः एक आदर्श देश की ओर।

दूसरा, इथियोपिया के कृषि मंत्रालय में हमारे सहयोगी छोटे-बड़े किसानों को बेहतर बीजों और आधुनिक पौधे लगाने की तकनीकों का इस्तेमाल करने में मदद करने के लिए विभिन्न तरीकों का प्रयोग कर रहे थे, और उन्हें अपने समुदायों के भीतर वकालत करने के लिए पुरुषों को प्रोत्साहित करने में कुछ सफलता मिली थी।

हमने स्वास्थ्य के लिए इस विचार को अनुकूलित किया और मॉडल परिवारों का इस्तेमाल किया जिन्हें हमने नेतृत्व करने के लिए पहले से प्रशिक्षित किया था, और जिसे हम महिलाओं की विकास सेना कहते हैं।

एक स्वास्थ्य विकास कर्मी 2,500 लोगों या 500 परिवारों के एक समुदाय को कवर करता है। यह पुरानी प्रणाली पर सुधारों की एक बड़ी श्रृंखला है, लेकिन यह अभी भी कर्मियों के लिए अपनी देखभाल में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति के साथ एक गहरा निजी संबंध बनाने के लिए बहुत बड़ी संख्या है। दूसरी ओर, महिलाओं की विकास सेना में 3 मिलियन सदस्य हैं, हरेक छह परिवारों के लिए एक। वे समुदाय के सदस्यों से बात करने वाले स्वास्थ्य पेशेवर नहीं है। वे समुदाय के सदस्य हैं।

हमने स्वास्थ्य के लिए इस विचार को अनुकूलित किया और मॉडल परिवारों का इस्तेमाल किया जिन्हें हमने नेतृत्व करने के लिए पहले से प्रशिक्षित किया था, और जिसे हम महिलाओं की विकास सेना कहते हैं।

वे समुदाय की महिलाओं से हर रोज़ कॉफी उत्सवों पर मिलते हैं और हर सप्ताह चर्च या मस्जिद में, और संक्षिप्त में, उन्होंने इथियोपिया में प्रसव के पर्यावरण को बदलने में मदद की है। 2011 और 2016 के बीच, सुविधा-केन्द्रों में बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं का अनुपात 20 से 73 प्रतिशत तक बढ़ गया है।

यह सिर्फ ऐसा नहीं है कि सेना एक समुदाय में महिलाओं को बताती है, जो स्वास्थ्य प्रणाली को चलाने वालों का मानना है कि उन्हें क्या करना चाहिए। यह दूसरी तरह से भी काम करता है। वे हमें भी बताते हैं कि समुदाय हमें क्या करते देखना चाहता है। उदाहरण के लिए, टिगरे प्रांत में, हमें पता लगा कि बहुत सी महिलाएँ सुविधा-केन्द्रों में बच्चे को जन्म देने से मना कर रहीं थी क्योंकि वे चाहती थीं कि जन्म के समय उनके धार्मिक नेता वहाँ मौजूद हों। दूसरी शंका: महिलाएँ नहीं चाहती थीं कि उन्हें स्ट्रेचर पर ले जाया जाए, क्योंकि स्ट्रेचर पर जाने वाले गांव के दूसरे लोग कभी वापस नहीं आये थे।

अब, धार्मिक नेता स्वास्थ्य सुविधा-केन्द्र में जाते हैं, ताकि एक सुरक्षित प्रसव का अर्थ यह नहीं है कि प्रसव के समय लोगों का संस्कृति से अलगाव हो गया है। हमने केवल गर्भवती महिलाओं के लिए एक नई स्ट्रेचर तैयार करवाई। हमने मातृत्व प्रतीक्षा घर खोले जहाँ तीसरी तिमाही वाली महिलाएँ, जब प्रसव-पीड़ा में जाने का इंतजार कर रहीं हों तो सुविधा-केन्द्र के पास रह सकें। ये वे समस्याएँ और समाधान थे, जिनके बारे में हमने नहीं सोचा था, लेकिन महिलाओं की विकास सेना ने समुदाय की ज़रूरतों के प्रति हमारी आंखें खोलीं।

अब जबकि और इथोपियन महिलाएँ सुविधा-केन्द्रों में बच्चों को जन्म दे रही हैं, अभी भी काफी काम करना बाकी है: यह पक्का करना कि सुविधा-केन्द्रों में दी जाने वाली देखभाल की गुणवत्ता समान रूप से उत्कृष्ट है। इसका मतलब बहुत सी चीजें हैं, जिसमें और उपकरण और दवाएँ खरीदना और अधिक कुशल प्रदाताओं को प्रशिक्षित करना शामिल है, जो कि हम कर रहे हैं।

इसका मतलब यह भी है कि समुदाय को स्वास्थ्य प्रणाली से जुड़ा रखना, यही कारण है कि महिला विकास सेना एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती रहेगी। हमें इथियोपिया के स्वास्थ्य मंत्रालय तक अपनी माँगों को पहुंचाने का एक रास्ता मिल गया है। और जब आपके पास एक मांग करने वाला समाज होता है, तो सरकार उनकी मांगों को पूरा करती है।

आंकड़ों के पीछे की कहानियाँ

© 2017 बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन। सर्वाधिकार सुरक्षित।