ईमेल पर अपडेट प्राप्त करें

बिल और मेलिंडा गेट्स संस्थान से ईमेल अपडेट्स प्राप्त करने के लिए साइन अप करें।

अब आप हमारी मेलिंग लिस्ट में सब्स्क्राइब्ड हैं

मामला अध्ययन (केस स्टडी)

एचआईवी

दुनिया भर में प्रति 1,000 लोगों में एचआईवी से हुई मौतें
वर्तमान अनुमानयदि हम उन्नति करते हैंयदि हम पीछे की ओर जाते हैं10% बजट में कटौती
199020162030
0
0.1
0.2
0.3
0.4
0.05
0.14
0.09
0.17
0.06
0.19
एड्स, टीबी और मलेरिया से लड़ने के लिए वैश्विक फंड की शुरूआत
2002
PEPFAR की शुरूआत
2003
यह मॉडल एचआईवी उपचार के लिए दाता निधिकरण में कटौती के प्रभाव को दर्शाता है, वैश्विक एचआईवी कार्यक्रमों का सिर्फ एक पहलू, जिसमें निदान और रोकथाम भी शामिल है।

आंकड़ों के पीछे की कहानियाँ

मेलिंडा गेट्स

उपाध्यक्ष, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन

2000 के दशक की शुरुआत में, दुनिया ने इस संकट से निपटने के लिए एक बड़ा निवेश किया, जिसमें AIDS (एड्स), टीबी, और मलेरिया से लड़ने के लिए वैश्विक फंड और PEPFAR, एड्स से राहत के लिए राष्ट्रपति की आपातकालीन योजना शामिल थी। वैश्विक स्वास्थ्य के इतिहास में, उन लोगों तक उत्पादों और सेवाओं को पहुंचाने में कभी इतनी मात्रा में वृद्धि नहीं हुई थी, जिन्हें उनकी आवश्यकता थी। इसीलिए AIDS (एड्स) से होने वाली मौतों का वक्र 2005 के आसपास काफी तेजी से मुड़ा।

35 मिलियन मौतों के साथ, AIDS (एड्स) मेरे जीवनकाल की सबसे खराब मानवीय आपदा है। लेकिन जब आप इस बात पर विचार करें कि क्या हुआ होता यदि यह वक्र अपने मूल प्रेक्षण पथ पर ही रुका रहता, तो HIV के खिलाफ़ संघर्ष को हमारी सबसे बड़ी सफलताओं के बीच गिने जाने की भी आवश्यकता है।

यह यह सफलता जोखिम पर है।

दाता और विकासशील देशों की सरकारें दोनों, जिन्होंने 15 साल पहले इस संकट पर इतने आक्रामक तरीके से प्रत्युत्तर दिया था, उनका ध्यान अब अन्य बातों पर है। HIV पर नियंत्रण के लिए निधियाँ देना अब सपाट हो गई है, और अब कटौती किये जाने की बातें हो रही हैं। प्रतिस्पर्धी प्राथमिकताओं और सीमित संसाधनों की इस दुनिया में, ये बातचीतें करना अब अनिवार्य है, लेकिन मैं यह सुनिश्चित करना चाहती हूँ कि जो लोग इस बारे में बातचीत कर रहे हैं, उन्हें परिणामों के बारे में स्पष्ट रूप से पता हो

मैं HIV के उपचार के लिए एक खाली चैक देने की बात नहीं कर रही हूँ, क्योंकि मुझे नहीं लगता कि हमें किसी ऐसे चैक जरूरत है।

पहला, हम अब लोगों का अधिक प्रभावशाली तरीके से उपचार कर सकते हैं। कुछ देश, जैसे कि ज़िम्बाब्वे, ने विभेदित देखभाल के रूप में जाने जानी वाली प्रक्रिया को लागू किया है। अधिकतर मरीज़ उपचार से जुड़े पथ्य का ध्यान से पालन करते हैं, इसलिए उन्हें लंबे समय तक दवाओं की आपूर्ति प्राप्त होती है और उन्हें कम नियमित रूप से स्वास्थ्य सुविधा केन्द्र जाना पड़ता है। ज़िम्बाब्वे के उपचार करवाने वाले दो-तिहाई से अधिक लोग किसी स्वास्थ्य पेशेवर के पास प्रत्येक तीन महीने में केवल एक बार जाते हैं। हालांकि, मरीज़ जिनके पथ्य पर बने रहने की कम संभावना है, उन्हें अतिरिक्त सहायता प्राप्त होती है। इस मॉडल में, कोई भी अपनी जरूरत से अधिक सेवाएँ न प्राप्त करके पैसों की बर्बादी नहीं कर रहा, और न ही अपनी जरूरत से कम प्राप्त करके बीमार होने का जोखिम उठा रहा है।

दूसरा, दीर्घकाल में AIDS (एड्स) के संकट का समाधान करने की कुंजी रोकथाम है। जितने कम लोग इससे संक्रमित होंगे, उतने ही कम लोगों को उपचार की आवश्यकता होगी। हम किसी बीमारी को सिर्फ नियंत्रित नहीं करना चाहते जबकि हम उसका अंत कर सकते हैं।

हमें रोकथाम के सर्वोत्तम उपायों को पहचानना और बढ़ावा देना होगा ताकि हम अपने द्वारा खर्च किये जाने वाले प्रत्येक डॉलर का अधिकतम प्रभाव प्राप्त कर सकें।

दुर्भाग्यवश, रोकथाम के लिए दृष्टिकोण भी चिंताजनक है। पिछले दशक में, नये संक्रमणों में गिरावट की दर धीमी हो गई है। वर्तमान में कमी की दर जनसंख्या में होने वाली उस वृद्धि के लिए पर्याप्त नहीं है जोकि हम अगली पीढ़ी के दौरान अफ्रीका में देख रहे होंगे। अफ्रीका का युवा वर्ग आशावाद का एक कारण है—अधिक से अधिक प्रतिभावान युवा वर्ग जो बड़ी समस्याएं हल करना चाहते हैं हर साल उम्र के उस पड़ाव में आ रहे हैं—लेकिन यह पक्का करना कि उनकी देखभाल की जा रही है, यह भी एक चुनौती है।

1990 में, इस महाद्वीप पर 15 और 24 की आयु के बीच के 94 मिलियन लोग थे, वह उम्र जब लोगों को HIV से संक्रमित होने का सबसे अधिक खतरा होता है। 2030 तक, 280 मिलियन से भी अधिक लोग होंगे।

इसका अर्थ काफी हद तक स्पष्ट है। अगर हम केवल उतना ही करते हैं जितना हम रोकथाम के लिए कर रहे हैं, तो HIV ग्रस्त लोगों की पूर्ण संख्या अपने पिछले शिखर से भी ज्यादा बढ़ जाएगी।

हम बेहतर प्रदर्शन करना ही होगा। उसका कुछ हिस्सा और फंडिंग प्राप्त करना है, कम नहीं। और, जैसा की उपचार के साथ है, हमें सर्वोत्तम रोकथाम के उपायों को पहचानना और बढ़ावा देना होगा ताकि हम अपने द्वारा खर्च किये जाने वाले प्रत्येक डॉलर का अधिकतम असर प्राप्त कर सकें।

स्वैच्छिक चिकित्सा पुरुष खतना और पूर्व-जोखिम प्रोफीलैक्सिस या PrEP दोनों पर ज़ोर देता हुआ, केन्या इस क्षेत्र में अग्रणी रहा है, जो वर्तमान में उपलब्ध सबसे प्रभावी निवारण तरीकों में से दो हैं। अन्य देश केन्या के अनुभव से बहुत कुछ सीख सकते हैं।

समय के साथ-साथ, हमें बेहतर औजारों की ज़रूरत होगी, जैसे कि लंबे समय तक असर करने वाली दवाएँ जो HIV संक्रमण को रोकती हैं और, अंतत:, एक वैक्सीन की। लेकिन, अनुसंधान और विकास वित्तपोषण वाला पैटर्न डिलीवरी वित्तपोषण के समान ही है: यह सपाट हो गया है, और अब यह कटौतियों के लिए लक्षित है।

यह एक खौफ़नाक संभावना है। अनुसंधान और विकास निवेशों के बिना, हमारे पास वे नई खोजें नहीं होंगी जो HIV के हस्तांतरण को रोकना आसान बनाएँ। इस दौरान, यदि हमने उन साधनों पर और खर्च नहीं किया जो हमारे पास अब हैं, तो हमारे सामने और भी मामले होंगे। यदि हमारे सामने और भी मामले होंगे, तो हमें इलाज पर ज़्यादा खर्च करना होगा, नहीं तो लोग मर जाएंगे।

लेकिन यह कारणों की लड़ी दूसरी दिशा में भी काम करती है। यदि हम और अधिक निवेश करते हैं, यदि हम अधिक कुशल हैं, और हम जो कुछ सीखते हैं उसे साझा करते हैं, अगर हम अधिक नेतृत्व दिखाते हैं, तो हम सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरे के रूप में HIV के अंत की कहानी लिखेंगे।

आंकड़ों के पीछे की कहानियाँ

© 2017 बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन। सर्वाधिकार सुरक्षित।